पुस्तकालय

लाइब्रेरी तो ज्ञान का समुह है | इसका प्रत्येक विद्यालय में महत्वपूर्ण स्थान रहा है | हमारे विद्यालय में भी इसकी उचित व्यवस्था है | विशेष कर 9,10,11,12 के छात्र - छात्राओं के लिए |

ताकि बच्चे किसी एक बुक में सिमट कर न रहे | उन्हें अलग - अलग लेखक की पुस्तक पढने का अवसर मिले | जिससे छात्रों की बौद्धिक क्षमता में बृद्धि हो |

इसलिए विद्यालय में पुस्तक की उचित व्यवस्था लाइब्रेरी के रूप में की गई है |